Thursday, 15 August 2013

........................................

........................................

बिछड़कर मिलने का
मजा अलग होता है
एक अरसे बाद मिलो
तो वोह समां अलग होता है
जितने दिन तेरे बिन गुजारे
वो सब भूलकर
तुझे देखने का एहसास
अलग होता है
जन्दगी में क्या छूट गया
इस एहसास के लिए
बिछड़ना भी जरूरी होता है

दौड़ते दौड़ते ज़िन्दगी में कभी
रुकना भी ज़रूरी होता है
चीजो की एहमियत समझने के लिए
ठोकर खाकर संभालना भी ज़रूरी होता है
एक ही बात है बस ज़िन्दगी में
मरने से पहले
एक बार जीना भी ज़रूरी होता है
और ज़िन्दगी जीने के लिए
तेरा मेरी ज़िन्दगी में आना
भी ज़रूरी होता है


..सिंह