Wednesday, 24 July 2013

उड़ना है

          
         उड़ना है
गिरना है, बिखरना है
बिखकर फिर से जुड़ना है
आसमान को छुना है
इसलिए मुझको उड़ना है

उड़ना है
ज़िन्दगी तुझसे मिलना है
मिलना है, बिछड़ना है
बिछड़कर फिर से मिलना है
इसलिए मुझको उड़ना है

उड़ना है
हारना है, जितना है
हार कर भी जितना है
गिर कर फिर से उठना है
इसलिए मुझको उड़ना है

उड़ना है
एक दिन तो मरना है
मरने से पहले जीना है
आसमान को छुकर मुझको
एक बार तो जीना है
इसलिए मुझको उड़ना है
                                 
                                   जे. . सिंह